top of page

आज़माइश

Updated: Dec 1, 2021

आशिकी तो कई बार हुई है

कई काफिलों में ज़िन्दगी बेज़ार हुई है

मगर मोहब्बत सिर्फ आपसे की है हमने

सिर्फ आपके लिए अश्को की बहार हुई है

 

इल्तिजा है कभी खुदसे महरूम ना करना

ज़िन्दगी कामिल है मेरी आपसे

आपके बिना जैसे मेरी कायनात में क़यामत

मेरे दिन भी आपसे, मेरा जहान भी आपसे

 

इस हसीन रात फिर मोहब्बत लव्ज़ों में जुटी है

आज फिर आपसे गुफ्तगू करने की आरज़ू उठी है

रोक लो इस वक़्त को यही, कैद करलो ये लम्हे

आपके नूर की नज़ाकत पे हर पल हमारी जान लुटि है

 

शिददत से चाहा तो ज़िन्दगी के हर पल आपसे मुलाकात होगी मेरी रूहानियत आपके आगोश में आबाद होगी

आपकी खिदमत में तो हम फ़ना भी हो जाए

रहे बस आप मेरी इनायत और मैं आपकी जोगी

 

29 views0 comments

Recent Posts

See All
Post: Blog2_Post
bottom of page